Chalein Swa ki Aur....Shivirs

ब्रह्म सत्य जगत मिथ्या

ब्रह्म सत्य जगत मिथ्या

        सद्गुरू आपसे कह रहे हैं कि आप स्वयं को जो शरीर समझ रहे हो, वास्तव में आप वह नहीं हो । आप मरनेवाले शरीर नहीं अपितु अमर आत्मा हो ।

        शरीर न सत् है, न सुन्दर है और न प्रेमरूप है । यह तो हड्डी-मांस, रूधिर और वात-पित्त-कफ से बना हुआ एक जड़ ढाँचा है । यह शरीर पहले नहीं था, बाद में नहीं रहेगा और अभी भी नहीं (मृत्यु) की तरफ जा रहा है । परन्तु आप तो पहले भी थे, अभी भी हो और बाद में भी रहोगे । अपने को सदैव सच्चिदानंदस्वरूप मानो ।

         शरीर और इन्द्रियों से व्यवहार करते हुए भी यदि स्वयं को सबका साक्षी, दृष्टा मानोगे तो बेड़ा पार हो जायेगा । वास्तव में आप दृष्टा ही हो । आपकी सत्ता से ही वृत्ति पदार्थों का ज्ञान कराती है । सबकुछ आपकी सत्ता से बना है । मैं आपको आत्मज्ञान की ऊँची बातें बता रहा हूँ । ये बातें इतनी आसानी से समझ नहीं आतीं, अतः आपसे यही कहता हूँ कि सच्चे संतों के संग में रहकर सत्शास्त्रों का अध्ययन करते रहो, सत्य का रहस्य समझ में आयेगा । मुमुक्षु को सदैव एक ही इच्छा रखनी चाहिए कि : ‘मैं अवश्य ही मोक्ष-प्राप्ति करूँगा ।’ आपके भीतर आनंद की धारा बह रही है । उसमें स्नान करो, उसीमें डूबे रहो तो संसार आपको नहीं डुबो पायेगा ।

         ‘आत्मा सत् और जगत मिथ्या है’ – यही सब ग्रंथों एवं सभी साधनाओं का सार है । मन को आत्मा में शांत करने का प्रयत्न करना चाहिए । आत्मा को जानने के बाद कोई इच्छा नहीं बचती । उसे जाननेवाला आत्मस्वरूप हो जाता है, आनंदस्वरूप हो जाता है । उसके लिए समस्त विश्व अपना ही स्वरूप हो जाता है । संसार मेला है, स्वप्न है । आप एक ही सत्य हो । जो कुछ देख रहे हो वह स्वप्न है । आप सबके दृष्टा हो । शरीर, इन्द्रियाँ और उनके दुःख-सुख सबसे परे हो । जब तक शरीर है तब तक परिस्थितियाँ और दुःख-सुख आते रहेंगे परन्तु न दुःख रहेगा और न सुख । जिस प्रकार संसार में आसक्त व्यक्ति संसार के पदार्थों से प्रीति आप आत्मा-परमात्मा से करो और इसी जन्म में जीवनमुक्त हो जाओ...आनंदमय हो जाओ । 

Previous Article ‘वेलेन्टाईन डे’ नहीं, ‘मातृ-पितृ’ पूजन दिवस मनायें
Next Article सत्संग से ही संस्कारों की प्राप्ति
Print
1708 Rate this article:
4.0

Please login or register to post comments.

123456