Self-Cultivation | स्वाध्याय

क्या है स्वाध्याय ?

आत्मसाक्षात्कारी ज्ञानीजनों द्वारा रचित आध्यात्मिक शास्त्रों एवं पुस्तकों का अध्ययन ‘स्वाध्याय’ कहलाता है । पवित्र ग्रंथों का दैनिक पारायण स्वाध्याय है । यह राजयोग के नियम का चौथा अंग है । आत्मस्वरूप के विश्लेषण को या ‘मैं कौन हूँ ?’ के ज्ञान को ही स्वाध्याय की संज्ञा दी जाती है । किसी भी मंत्र के सस्वर पाठ को भी स्वाध्याय ही कहा जाता है । सत्संग-शास्त्रों के अध्ययन को भी स्वाध्याय कहते हैं । इनका पारायण ध्यानपूर्वक होना चाहिए । जो पढ़ें उसे समझें और जो समझे हों उसका मनन करके शांत होते जायें तो फिर निदिध्यासन बन जाता है और आप आत्मसाक्षात्कार के करीब हो जाते हैं । स्वाध्याय में मंत्रजप भी आ जाता है । प्रतिदिन स्वाध्याय और उसका दैनिक जीवन में अभ्यास करने से आपको यह भगवान से मिला देगा ।
क्यों जरूरी है स्वाध्याय ?
मन को आदर्श (उच्च सिद्धान्त) के प्रति सचेत रखने का प्रभावशाली उपाय शास्त्रों तथा संतों की जीवनियों का दैनिक अध्ययन करने में निहित है । ऐसे अध्ययन से मन में प्रभावशाली स्वीकारात्मक विचार उभरते हैं, जो मानसिक शक्ति को तीव्र करते हैं । वे तुरंत प्रेरणा प्रदान कर मनुष्य को अधोगति से बचा लेते हैं । अतः स्वाध्याय तो साधक को जीवन में एक दिन के लिए भी नहीं छोड़ना चाहिए ।
स्वाध्याय प्रेरणादायक होकर मन को आध्यात्मिक ऊँचाइयों तक ले जाता है और संशय निवारक होता है । यह अपवित्र विचारों का उन्मूलन कर देता है । यह मन के लिए नयी आध्यात्मिक रूढ़ियों (उभारों) का काम करता है, विक्षेप का निवारण करता है और ध्यान में सहायक रहता है । एक प्रकार की सविकल्प समाधि का रूप ले लेता है । मनरूपी पशु के लिए चारागाह का काम देता है । जब सदगुरु निर्दिष्ट आध्यात्मिक पुस्तकें पढ़ते हैं तो आप आत्मसाक्षात्कार प्राप्त ज्ञानियों के विचारों से विचारवान बन जाते हैं । आपको उनके प्रेरणा मिलती है और हर्षोन्माद प्राप्त होता है । वे लोग धनभागी है जिन्हें ब्रह्मवेत्ता गुरु का मंत्र और सत्संग मिला है और उन्हीं के निर्दिष्ट ग्रंथ और मंत्र में लगे रहते हैं । और वे अपने-आपके शत्रु हैं जो गुरुदीक्षा के बाद भी मनचाहे, मनमुखी लोगों की, आत्मानुभवहीन व्यक्तियों की किताबों में उलझते रहते हैं । ऐसे लोगों के लिए देवर्षि नारदजी कहते हैं-
मन्दाः सुमन्दमतयो मन्दभाग्या ह्युपद्रुताः । (श्रीमद्भागवत माहात्म्यः 1.32)
सावधान हो जायें, सुधर जायें तो अच्छा है ।
जब आपको सदगुरु का सत्संग नहीं मिल पाता, तब स्वाध्याय ही आपका सहायक बनेगा और प्रेरणा देगा । जैसे ऋषि प्रसाद है, ऋषि दर्शन है । स्वाध्याय श्रद्धा की अस्थिरता को दूर कर उसे दृढ़ करता है । यही मुक्ति की प्रबल इच्छा का कारण बनता है । इसी से उत्साह तथा प्रकाश प्राप्त होता है । यह आपके सामने उन संतों की सूची रखता है जिन्होंने सत्य को अपनाया, कष्टों का सामना करके कठिनाइयों को हटाया । इससे आपको आशा तथा शक्ति प्राप्त होती है । यह आपके मन को सत्त्व से भर देता है और प्रेरणा देकर उन्नत करता है । आत्मज्ञानियों व संतों की पुस्तकों में लिखी शिक्षाओं को आचरण में लाने से आपके थके-माँदे शरीर तथा मन को विश्रांति तथा सांत्वना मिलती है । आध्यात्मिक साहित्य पीड़ादायक वातावरण में साथी, कठिनाइयों में आदर्श मार्गदर्शक, अविद्या-अंधकार में पथ-प्रदर्शक और समस्त रोगों में सर्वरोगौषधि तथा भविष्य-निर्माता का कार्य करता है ।
धर्मशास्त्र ज्ञानियों, संतों दार्शनिकों तथा अध्यात्मविद्या में प्रवीण विद्वज्जनों के अनुभव-ज्ञान से परिपुष्ट हैं । स्वाध्याय द्वारा शास्त्रों के मर्मज्ञ बनिये । प्रकृति का वास्तविक रूप पहचानिये और अपने सीमित जीवन को प्रकृति के दिव्य नियमानुसार ढालिये । शक्ति तथा आनंद के बाहुल्य का द्वार आत्मज्ञान द्वारा ही खुलता है । आत्मज्ञान ही अनगिनत कष्टों तथा पापों का नाशक होकर अविद्या का उन्मूलन करता है । आत्मज्ञान ही परम शांति तथा शाश्वत पूर्णता  प्राप्त कराता है ।
समाधि का काम करता है स्वाध्याय
रामायण, भागवत, योगवासिष्ठ महारामायण आदि धर्मशास्त्रों का अध्ययन नियमपूर्वक चलता ही रहे । स्वाध्याय के लिए गीता व श्री योगवासिष्ठ महारामायण तो अनुपम शास्त्र हैं । अपने सुविधानुसार आधे घंटे से तीन घंटे तक प्रतिदिन इनका पठन, मनन-चिंतन, निदिध्यासन करें । शास्त्रों का स्वाध्याय ही क्रियायोग है, नियम है । यह हृदय को पवित्र करता है और मन में उच्च कोटि के विचार भर देता है । साधक भले ही आध्यात्मिक उन्नति के किसी भी स्तर पर क्यों न हो, उसे सत्संग-शास्त्रों, जिनमें आत्मज्ञानियों ने पावन सत्य का प्रतिपादन किया है, के स्वाध्याय का नियम कदापि नहीं छोड़ना चाहिए । क्या आप जन्म से आत्मज्ञानी तथा परिव्राजक (संन्यासी) शुकदेवजी से भी अधिक उन्नत हैं ? क्या आप उन महान ऋषियों से भी अधिक ज्ञानी हो गये हैं, जो नैमिषारण्य में श्री सूतजी महाराज से श्रीमद्भागवत सप्ताह श्रवण हेतु एकत्र हुए थे ? ऐसे महान ज्ञानियों के उदाहरण (जीवन) से कुछ सीखिये और सदैव आध्यात्मिक ज्ञान को पाने के लिए लगे रहिये । उत्पाती न बनिये । स्वाध्याय, सज्जनता, साधना मत छोड़िये । अंधे स्वार्थ में, ईर्ष्या, द्वेष, आक्रमण व धोखे की रीति नीति समय आने पर धोखेबाज को ही तबाह करती है ।
कुछ ग्रहण करने के लिए सदैव उत्सुक रहिये । वृद्ध वही है जो यह मान बैठता है कि उसका ज्ञान पर्याप्त है, उसे अधिक की आवश्यकता ही नहीं रही । वह जीवित होकर भी मृत है जो उपनिषद् व ब्रह्मवेत्ताओं के सत्संग को सुनने की आवश्यकता अनुभव नहीं करता तथा अनर्गल चलचित्र व निगुरे लोगों के लेखों में उलझता रहता है या मरने वाले शरीर की सुख सुविधाओं व वाहवाही के पीछे भटकता रहता है । दुर्लभ मनुष्य शरीर और कीमती समय दुर्लभ परमात्मदेव को पाने में लगाना ही बुद्धिमत्ता है एवं उन्हें गँवाना मूर्खता है ।

स्वाध्यायान्मा प्रमदः ।
स्वाध्याय में प्रमाद नहीं करना चाहिए ।