संयम-सदाचार बनायें विद्यार्थियों को महान
/ Categories: Child Care
Visit Author's Profile: Admin

संयम-सदाचार बनायें विद्यार्थियों को महान

▶जो महान बननेवाले पवित्र विद्यार्थी हैं वे कभी नकारात्मक, फ़रियादात्मक चिंतन नहीं करते । जो महान बनना चाहते हैं वे कभी हलके कार्यों में लिप्त नहीं होते । ऐसे मुट्ठीभर दृढ़ संकल्पबलवाले व्यक्तियों का ही तो इतिहास गुणगान करता है ।

▶ *हे विद्यार्थी ! तू दृढ़ संकल्प कर ।*

हे विद्यार्थी ! तू दृढ़ संकल्प कर कि 'एक सप्ताह के लिए इधर-उधर समय व्यर्थ नहीं गँवाऊँगा ।' हे विद्यार्थी ! तेरे जीवन के इस ओज को तू अभी से सुरक्षित कर दे । हे वत्स ! 


▶ जो विद्यार्थी प्रतिदिन भगवान का ध्यान करता है, उसकी बुद्धि जरूर तेजस्वी होती है । जो विद्यार्थी प्रतिदिन मौन रहने का अभ्यास करता है, उसका मनोबल बढ़ता है ।

▶ जो विद्यार्थी आहार-विहार का ध्यान रखता है, उसका  तन तन्दरुस्त रहता है ।


▶ जो विधार्थी माता-पिता और गुरुजनों की प्रसन्नता के लिए कार्य करता है, वह विद्यार्थी आगे चलकर एक श्रेष्ठ मनुष्य, एक श्रेष्ठ नागरिक व एक श्रेष्ठ साधक होकर अपने साध्य को भी पा लेता है ।

Previous Article कैसे बनायें शिशु आहार (Baby Food)
Print
359 Rate this article:
3.0

Please login or register to post comments.