Benefits of Lemon
/ Categories: Healthy Kitchen
Visit Author's Profile: SuperUser Account

Benefits of Lemon

    जानिये छोटे से नींबू के औषधीय प्रयोग

हैजा, मन्दागिन, अजीर्ण, उल्टी, कब्ज आदि पेट के रोगों में औषधवत कार्य करता छोटा सा... नींबू

नींबू उत्तम पित्तशामक , वातानुलोमक, जठराग्निवर्धक व आमपाचक है | यह अम्लरसयुक्त (खट्टा) होने पर भी पेट में जाने के बाद मधुर हो जाता है | मंदाग्नि, अजीर्ण, उदरवायु, पेट में दर्द, उलटी, कब्ज, हैजा आदि के रोगों में यह औषधवत काम करता है | ह्रदय, रक्तवाहिनियों व यकृत (लीवर) की शुद्धि करता है | इसमें पर्याप्त मात्रा में स्थित विटामिन ‘सी’ रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाता है | 

यह जंतुनाशक भी है | प्रात: खाली पेट नींबू का रस पानी में मिलाकर पीने से आंतों  में संचित विषैले पदार्थ नष्ट हो जाते हैं तथा रक्त शुद्ध होने से संपूर्ण शरीर की सफाई हो जाती है, मांसपेशियों को नया बल मिलता है | इससे शरीर में स्फूर्ति व ताजगी आती है | 

                    नींबू के औषधीय प्रयोग ....

दाँतों के रोग : १. नींबू के रस को ताजे जल में मिलाकर कुल्ले करने से दांतों के अनेक रोगों में लाभ होता है | मुख की दुर्गन्ध दूर होती है |

२. निचोड़े हुए ताजे नींबू के छिलके को सुखाकर कूट-पिस के उससे मंजन करने से दाँत मजबूत, साफ व सफ़ेद हो जाते हैं |

३. नींबू का रस, सरसों का तेल व पिसा नमक मिलकर रोज मंजन करने से दांतों के रोग दूर होकर दाँत मजबूत व चमकदार बनते हैं |  

४. पायरिया में मसूड़ों पर नींबू का रस मलते रहने से रक्त व मवाद का स्त्राव रुक जाता है |

पुरानी खांसी : एक चम्मच नींबू के रस में दो चम्मच शहद मिलाकर लेने से पुरानी खांसी में लाभ होता है |

जुकाम - गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से शीघ्र लाभ होता है |

सिरदर्द- नींबू के दो समान टुकड़े कर उन्हें थोड़ा गर्म करके सिर व कनपटियों पर लगाने से सिरदर्द में आराम मिलता है |

गले की तकलीफें : गले की सूजन, गला बैठ जाना आदि में गर्म पानी में नींबू का रस व नमक मिलाकर गरारे करने चाहिए | जिन्हें खांसी में पतला कफ निकलता हो उन्हें यह प्रयोग नहीं करना चाहिए |

उच्च रक्तचाप:  १. किसी भी प्रकार से नींबू के रस के प्रयोग करने से रक्तवाहिनियाँ  कोमल व लचकदार हो जाती है | ह्रदयघात (हार्ट-अटैक) होने का भय नहीं रहता व रक्तचाप सामान्य बना रहना रहता है |

२. नींबू का रस, शहद व अदरक का रस तीनों एक-एक चम्मच गुनगुने पानी में मिलाकर सप्ताह में २-३ दिन पियें | यह पेट के रोग, उच्च रक्तचाप, ह्रदयरोग के लिए एक उत्तम टॉनिक होता है |

बाल गिरना : नींबू का रस सिर के बालों की जड़ो में रगड़कर १० मिनट बाद धोने   से बालों का पकना, टूटना या जुएँ पड़ना दूर होता है|

सिर की रुसी- सिर पर नींबू का रस और सरसों का तेल समभाग मिलाकर लगाने के बाद में दही रगड़कर धोने से कुछ ही दिनों में सिर की रुसी दूर हो जाती है |

पेटदर्द, मन्दाग्नि- एक गिलास पानी में दो चम्मच नींबू का रस, एक चम्मच अदरक का रस व शक्कर डालकर पीने से पेटदर्द में आराम होता है, जठराग्नि प्रदीप्त होती है, भूख खुलकर लगती है |

मोटापा एवं पुराना कब्ज : एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस एवं दो चम्मच शहद डालकर पीने से शरीर की अनावश्यक चर्बी कम होती है एवं पुराना कब्ज मिटता है |

 

 

Print
310 Rate this article:
No rating

Please login or register to post comments.