जानिए चमेली के फूल, पत्ते, जड़ के असरकारक फायदे
Visit Author's Profile: Admin

जानिए चमेली के फूल, पत्ते, जड़ के असरकारक फायदे

चमेली के फूल, पत्ते तथा जड़ तीनों ही औषधीय रूप में उपयोग किये जाते हैं। 

 

गर्भवती एवं दूध पिलाने वाली महिलाएं कम मात्रा में करें इसका सेवन ।

 

चमेली (Jasmine) सफेद रंग का ख़ुशबूदार फूल है जिसका सबसे ज़्यादा उपयोग लोग सजावट के लिए करते हैं । आयुर्वेद के अनुसार चमेली स्वाद में कड़वी व कसैली, पचने में हल्की, तासीर में गर्म और कफ व पित्त नाशक होती है। इसके अतिरिक्त चमेली का प्रयोग औषधीय उपचार के लिए भी किया जाता है। चमेली के फूल, पत्ते तथा जड़ तीनों ही औषधीय रूप में उपयोग किये जाते हैं। चमेली के फूलों से तेल और इत्र का निर्माण होता है।  तो आइए जानते हैं क्या है चमेली के फायदे और नुकसान

 

       चमेली के पत्तों से होते हैं ये फायदे 

 

1. दाद रोग


दाद रोग में चमेली के पत्तों को पीसकर लेप लगाएँ । इससे दाद रोग का निवारण होता है।

 

2. मूत्र रोग


थोड़े से चमेली के पत्तों को बारीक़ पीसकर रस निकालकर रख लीजिए । कुछ दिनों तक इस रस का सेवन करने से मूत्र रोग में फ़ायदा मिलता है।

 

 

3. मुंह के छाले


कुछ दिनों तक चमेली के पत्तों को मुंह में रखकर पान की तरह चबाएँ । इससे मुंह के छाले दूर हो जाते हैं।

 

4. फटी हुई एड़ियां


चमेली के पत्ते पीसकर ताज़ा रस निकाल लें। इस रस को फटी हुई एड़ियों पर लगाएँ। इससे बिवाई या फटी हुई एड़ियाँ ठीक हो जाती है।

 

 

5. दांत का दर्द


चमेली के पत्तों को पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। फिर इस काढ़ा से कई बार गरारा करें। इससे मसूढ़ों के दर्द में लाभ मिलता है।

 

 

6. पेट के कीड़े


चमेली के 10 ग्राम पत्तों को पीसकर रस निकाल लें। फिर इस रस का सेवन करें। इससे पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

 

 

7. उल्टी या वमन


उल्टी आने पर 10 ग्राम सफेद चमेली के पत्तों के रस को 2 ग्राम काली मिर्च पाउडर के साथ मिला कर सेवन करें। इससे उल्टी आनी बंद हो जाती हैं।

 

 

चमेली के फूल के फायदे


8. थकान


चमेली के फूलों की डंडी और मिश्री को बराबर मात्रा में मिला कर पेस्ट बनाकर, इस पेस्ट को आँखों पर लगाएँ। इससे थकान दूर हो जाती है।

 

9. डिप्रेशन / मानसिक तनाव

 

सोते समय थोड़े से चमेली के फूल को अपने तकिए के पास रखें, क्योंकि इसकी खुशबू डिप्रेशन या मानसिक तनाव को कम करने में सहायक है।

 

10. नाक की फुंसियां


चमेली के फूल सूंघने से नाक के अन्दर की फुंसियां ठीक हो जाती हैं।

 

11. बढ़ाएं अपने चेहरे की चमक

 

चमेली के 30 फूलों को पीसकर लेप बना लें। फिर इस लेप को चेहरे पर लगाएँ। इससे चेहरे की चमक बढ़ती है और चेहरे पर निखार आता है।

 

   चमेली की पत्तों व फूल के साथ जानिए इसके जड़ के फायदे

 

12. कुष्ठ रोग


चमेली की जड़ का काढ़ा बनाकर उसका सेवन करें ।  इससे कुष्ठ रोग से राहत मिलती है ।

 

चमेली के तेल के फायदे


13. सिर दर्द


सिर में दर्द होने पर चमेली के तेल को माथे पर लगाकर थोड़ी मालिश करें। इससे सिर दर्द दूर हो जाता है।

 

14. योनि की खुजली


चमेली के तेल में थोड़ा कपूर मिलाकर योनि पर लगाएँ। इससे योनि की खुजली दूर हो जाती है।

 

           चमेली के नुकसान

 

1.चमेली का जरूरत से ज़्यादा मात्रा में उपयोग सिर दर्द का कारण बन सकता है।


2. गर्भवती एवं दूध पिलाने वाली महिलाओं को चमेली का बहुत कम मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए।


ध्यान रखें 

 

चमेली का किसी भी रूप में सेवन करने से पहले किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह जरूर ले लीजिए।

 

Previous Article त्वचा की कान्ति बढ़ाये सौंफ
Print
114 Rate this article:
No rating

Please login or register to post comments.