नवरात्रि के 9 दिन उपवास करने से होते हैं ये शारीरिक लाभ
/ Categories: General Tips
Visit Author's Profile: Admin

नवरात्रि के 9 दिन उपवास करने से होते हैं ये शारीरिक लाभ

देवी भागवत के तीसरे स्कन्द में नवरात्रि के महत्त्व का वर्णन किया गया है  मनोवांछित सिद्धियाँ प्राप्त करने के लिए देवी की महिमा सुनायी है, नवरात्रि के 9 दिन उपवास करने से शारीरिक लाभ बताये हैं ।

 

1. शरीर में आरोग्य के कण बढ़ते हैं ।

 

2. जो उपवास नहीं करता वो रोगों का शिकार हो जाता है, नवरात्रि के उपवास करने से भगवान की आराधना होती है इससे पुण्य तो बढ़ता ही है, लेकिन शरीर का स्वास्थ्य भी वर्ष भर अच्छा रहता है ।

 

3. प्रसन्नता बढ़ती है ।

 

4. द्रव्य की वृद्धि होती है ।

 

5. लंघन (उपवास) और विश्रांति से रोगी के शरीर से रोग के कण ख़त्म होते हैं ।

 

नौ दिन नहीं तो कम से कम 7 दिन / 6दिन /5 दिन , या आख़िरी के 3 दिन तो जरुर उपवास रख लेना चाहिए नवरात्रि में पति-पत्नी संयम से रहें ।

 

क्या करें नौ दिन  ?

 

१. नवरात्रि के पहले दिन स्थापना, देव वृत्ति की कुंवारी कन्या का पूजन हो ।


२. नवरात्रि के दूसरे दिन 3 वर्ष की कन्या का पूजन हो, जिससे धन आएगा ,कामना की पूर्ति के लिए ।


३. नवरात्रि के तीसरे दिन 4 वर्ष की कन्या का पूजन करें, भोजन करायें तो कल्याण होगा,विद्या मिलेगी, विजय प्राप्त होगा, राज्य मिलता है ।


४. नवरात्रि के चौथे दिन 5 वर्ष की कन्या का पूजन करें और भोजन करायें रोग नाश होते हैं ।

 

या देवी सर्व भूतेषु आरोग्य रुपेण संस्थिता


नमस्तस्यै नमस्तस्यैनमस्तस्यैनमो नमः ।।

 

 का जप करें; पूरा साल आरोग्य रहेगा ।

 

५. नवरात्रि के पांचवे दिन 6 वर्ष की कन्या का काली का रुप मानकर पूजन करके भोजन करायें तो शत्रुओं का दमन होता है ।

 

६. नवरात्रि के छठे दिन 7 वर्ष की कन्या का चंडी का रुप मानकर पूजन करके भोजन कराए तो ऐश्वर्य और धन सम्पत्ति की प्राप्ति होती है ।

 

७. नवरात्रि के सातवें दिन किसी महत्त्वपूर्ण कार्य को करने के लिए, शत्रु  पर धावा  बोलने के  लिए 8 वर्ष की कन्या का शाम्भवीरुप में पूजन करके भोजन करायें  ।

 

८. नवरात्रि की अष्टमी को दुर्गा पूजा करनी चाहिए सभी संकल्प सिद्ध होते हैं शत्रुओं का संहार होता है ।

 

९. नवरात्रि के नवमी को 9 से 17 साल की कन्या का पूजन भोजन कराने से सर्व मंगल होगा, संकल्प सिद्ध होंगे, सामर्थ्यवान बनेंगे, इस लोक के साथ परलोक को भी प्राप्त कर लेंगें,  पाप दूर होते हैं, नारकीय जीवन छूट जाता है, हर काम में, हर दिशा में सफलता मिलती है

 

Previous Article जीवन में विचारों को, सिद्धांतों को प्रतिष्ठित करने के लिए उपासना जरूरी
Print
137 Rate this article:
1.5
Please login or register to post comments.

General Tips