धन-सम्पदा प्रदायिनी दरिद्रतानाशक तुलसी
Visit Author's Profile: Admin

धन-सम्पदा प्रदायिनी दरिद्रतानाशक तुलसी

ईशान कोण में तुलसी का पौधा लगाने तथा पूजा के स्थान पर गंगाजल रखने से बरकत होती है।

तुलसी को रोज जल चढ़ाने तथा गाय के घी का दीपक जलाने से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है।

जो दारिद्रय मिटाना व सुख-सम्पदा पाना चाहता है, उसे तुलसी पूजन दिवस के अवसर पर शुद्ध भाव व भक्ति से तुलसी के पौधे की 108 परिक्रमा करनी चाहिए। पूज्य बापू जी।

*1. श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं वृन्दावन्यै स्वाहा। इस दशाक्षर मंत्र के द्वारा विधिसहित तुलसी का पूजन करने से मनुष्य को समस्त सिद्धि प्राप्त होती है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण प्र. खं. 22.10.11)

2. जिस घर में तुलसी का पौधा हो उस घर में दरिद्रता नहीं रहती। जहाँ तुलसी विराजमान होती हैं, वहाँ दुःख, भय और रोग नहीं ठहरते। (पद्म पुराण, उत्तर खण्ड)

3. सोमवती अमावस्या को तुलसी की 108 परिक्रमा करने से दरिद्रता मिटती है। (हिन्दुओं के रीति रिवाज तथा मान्यताएँ)

Previous Article प्रणाम करने से करे रोगों का निवारण: तुलसी
Next Article त्वचा की कान्ति बढ़ाये सौंफ
Print
83 Rate this article:
4.0

Please login or register to post comments.