Daily Routine for Healthy Life
/ Categories: Yoga
Visit Author's Profile: SuperUser Account

Daily Routine for Healthy Life

Previous Article Yoga Asana
Print
1094 Rate this article:
4.0

Please login or register to post comments.

साबूदाना की असलियत
Visit Author's Profile: Admin

साबूदाना की असलियत

       आमतौर पर साबूदाना शाकाहारी कहा जाता है तथा व्रत-उपवास में इसका काफी प्रयोग होता है । लेकिन क्या आप जानते हैं कि साबूदाना शाकाहार होने पर भी पवित्र नहीं है ?

      यह सच है कि साबूदाना ‘कसावाके गूदे से बनाया जाता है परन्तु इसकी निर्माणविधि इतनी अपवित्र है कि इसे शाकाहार एवं स्वास्थ्यप्रद नहीं कहा जा सकता है ।

      साबूदाना बनाने के लिए सबसे पहले कसावा को खुले मैदान में बनी कुण्डियों में डाला जाता है तथा रसायनों की सहायता से उन्हें लम्बे समय तक सड़ाया जाता है । इस प्रकार सड़ने से तैयार हुआ गूदा महीनों तक खुले आसमान के नीचे पड़ा रहता है । रात में कुण्डियों को गर्मी देने के लिए उनके आस-पास बड़े-बड़े बल्ब जलाये जाते हैं । इससे बल्ब के आस-पास उड़नेवाले कई छोटे-छोटे जहरीले जीव भी इन कुण्डियों में गिरकर मर जाते हैं ।

      दूसरी ओर इस गूदे में पानी डाला जाता है जिससे  उसमें सफेद रंग के करोड़ों लम्बे कृमि पैदा हो जाते हैं । इसके बाद इस गूदे को मजदूरों के पैरों नीचे रौंदाया जाता है । इस प्रक्रिया में गूदे में गिरे हुए कीट-पतंग तथा सफेद कृमि भी उसी में समा जाते हैं । यह प्रक्रिया कई बार दोहरायी जाती है ।

      इसके बाद इसे मशीनों में डाला जाता है और मोती जैसे चमकीले दाने बनाकर साबूदाना का नाम-रूप दिया जाता है परन्तु इस चमक में अपवित्रता छिपी होती है जो सभी को नहीं दिखाई देती ।

Print
811 Rate this article:
2.3

Please login or register to post comments.