Beauty Tips Articles

त्वचा में निखार लाने के घरेलू नुस्खे
त्वचा में निखार लाने के घरेलू नुस्खे

 

त्वचा की कान्ति

  • पहला प्रयोगः नींबू का रस एवं छाछ समान मात्रा में मिलाकर लगाने से धूप के कारण काला हुआ चेहरा निखर उठता है ।
  • दूसरा प्रयोगः राई के तेल में चने का आटा और हल्दी मिलाकर लगाने से त्वचा कान्तियुक्त होती है ।
  • तीसरा प्रयोगः मक्खन एवं हल्दी का मिश्रण करके रात्रि को सोते समय मुँह पर लगाने से मुँह कान्तिवान एवं निरोगी होता है ।
  • चौथा प्रयोगः चेहरे पर झुर्रियाँ हों तो दो चम्मच ग्लिसरीन में आधा चम्मच गुलाब जल एवं नींबू के रस की बूँदें मिलाकर मुँह पर रात्रि को लगायें । सुबह उठकर ठण्डे पानी से मुँह धो डालें । त्वचा का रंग निखरकर झुर्रियाँ कम हो जायेंगी ।
  • पाँचवाँ प्रयोगः तुलसी के पत्तों को पीसकर लुगदी बनाकर मुँह पर लगाने से मुँहासों के दाग धीरे-धीरे दूर हो जाते हैं ।
  • छठा प्रयोगः एक कप दूध को उबालें । जब दूध गाढ़ा हो जाये तब उसे नीचे उतार लें । उसमें एक नींबू निचोड़ दें तथा हिलाते रहें जिससे दूध व नींबू का रस एकरस हो जाय । फिर ठण्डा होने के लिए रख दें । रात को सोते समय इसे चेहरे पर लगाकर मसलें । चाहें तो एक-डेढ़ घण्टे के अन्दर चेहरा धो सकते हैं या रात भर ऐसे ही रहने दें । सुबह में चेहरा धो लें । इस प्रयोग से मुँहासे ठीक होते हैं । चेहरे की त्वचा कान्तिमय बनती है ।
  • सातवाँ प्रयोगः खुली हवा में घूमने से, कच्ची हल्दी का सेवन करने से तथा सप्ताह में एक बार 2 से 5 ग्राम त्रिफला चूर्ण को गर्म पानी के साथ लेने से सौन्दर्य बढ़ता है ।
  • आठवाँ प्रयोगः  मसूर की दाल के आटे को शहद में मिलाकर लगाने से मुख सुन्दर होता है ।
  •  नवाँ प्रयोगः शंख को पानी में घिसकर उस लेप को मुख पर लगाने से मुख कांतिवान बनता है ।
  • दसवाँ प्रयोगः चारोली को दूध में पीसकर मुँह पर लगाने से काले दाग दूर होकर त्वचा कांतिमान बनती है ।
  • ग्यारहवाँ प्रयोगः ताँबे के बर्तन में नींबू के रस को 24 घंटे तक रख दीजिए। फिर उसमें उतनी ही मात्रा में श्यामा तुलसी का रस तथा काली कलौंजी का रस मिलाइये। इस मिश्रण को धूप में सुखाकर गाढ़ा कीजिये। इस लेप को चेहरे पर लगाइये। धीरे-धीरे चेहरा स्वच्छ, चमकदार, सुंदर, तेजस्वी बनेगा व कांति बढ़ेगी।

 

त्वचा की ताजगी

  • पहला प्रयोगः दूध एवं अरण्डी का तेल समान मात्रा में मिलाकर शरीर पर मालिश करने से त्वचा चमकदार होती है ।
  • दूसरा प्रयोगः जौ के आटे को दही में मिलाकर पेस्ट बनाकर चेहरे एवं गले पर लगायें । 15 मिनट बाद गर्म पानी से साफ कर दें । इससे त्वचा में सफेदी आती है तथा त्वचा मुलायम हो जाती है ।
  • तीसरा प्रयोगः कोहनी की कठोरता एवं कालिमा को दूर करने के लिए रस निकले हुए आधे नींबू में आधी चम्मच शक्कर डालकर घिसें । कोहनी साफ और कोमल हो जायेगी ।
  • चौथा प्रयोगः मधु उत्तम स्वास्थ्यवर्धक है और साथ-साथ शरीर के रंग को निखारने का, त्वचा को कोमल बनाने का और सुन्दरता बढ़ाने का काम भी करता है । चेहरे और शरीर पर यदि शहद की मालिश की जाये तो सौन्दर्य अक्षय बनता है । अच्छे साबुनों में मधु का उपयोग भी होता है ।
  • पांचवाँ प्रयोगः मधु, नींबू, बेसन और पानी का मिश्रण चेहरे पर मलकर स्नान करने से चेहरा आकर्षक और सुन्दर बनता है ।
  • छठा प्रयोगः तुलसी की सूखी पत्तियों का चूर्ण पाउडर की तरह चेहरे पर रगड़ने से चेहरे की कांति बढ़ती है और चेहरा सुंदर दिखता है ।
  • सातवाँ प्रयोगः ताँबे के बर्तन में नींबू के रस को 24 घंटे तक रख दीजिए । फिर उसमें उतनी ही मात्रा में श्यामा तुलसी का रस तथा काली कलौंजी का रस मिलाइये । इस मिश्रण को धूप में सुखाकर गाढ़ा कीजिये । इस लेप को चेहरे पर लगाइये । धीरे-धीरे चेहरा स्वच्छ, चमकदार, सुंदर, तेजस्वी बनेगा व कांति बढ़ेगी ।
  • आठवाँ प्रयोगः मुलतानी मिट्टी और आलू का रस मिलाकर चेहरे पर लगाओ तो चेहरे में सौन्दर्य और निखार आयेगा ।
  • नवाँ प्रयोगः नारंगी के छिलके छाया में सुखा दें । कूटके उसका घोल बनायें । रात को लगायें और सुबह जीरे के पानी से धोलें ।
  • दसवाँ प्रयोगः कई बार चेहरा स्वच्छ-सुंदर बनाने हेतु भाप ली जाती है | यदि पानी में तुलसी के पत्तों का रस अथवा नींबू का रस डालकर भाप लें तो चेहरे के रोमकूप खुल जायेंगे और चेहरा स्वच्छ व सुंदर हो जायेगा |

 

शुष्क त्वचा

  • पहला प्रयोगः हाथ-पैर की त्वचा फटने पर बड़ का दूध लगाने से शीघ्र आराम होता है ।
  • दूसरा प्रयोगः आँवले के तेल में नींबू का रस समान मात्रा में मिलाकर लगाने से त्वचा की रूक्षता, झुर्रियाँ एवं कालापन मिटता है ।
  • तीसरा प्रयोगः तेल मालिश के साथ सुबह 1 से 2 ग्राम तुलसी की जड़ तथा उतने ही सोंठ के चूर्ण को गर्म पानी के साथ निरंतर सेवन करते रहने से कोढ़ जैसे भयंकर रोग भी दूर होते हैं । यह प्रयोग त्वचा की रूक्षता एवं फटने के रोग को दूर करता है ।
  • चौथा प्रयोगः त्वचा पर कहीं भी खुजलाहट होने पर उड़द की दाल को दही के साथ पीसकर लगायें, तुरन्त लाभ होगा ।
  • पांचवाँ प्रयोगः नींबू के रस में नारियल का तेल मिलाकर शरीर पर उसकी मालिश करने से त्वचा की शुष्कता, खुजली आदि त्वचा के रोगों में लाभ होता है ।

 

मुँह की खीलें (Pimples)

  • पहला प्रयोगः जीरे या लौंग को पानी में अथवा जायफल को दूध में घिसकर लेप करने से खीलें मिटती हैं ।
  • दूसरा प्रयोगः जामुन की गुठली को पानी में घिसकर लगाने से मुँहासों में लाभ होता है ।
  • तीसरा प्रयोगः  मुँहासों के लिए भी तुलसी बहुत उपयोगी है ।
  • चौथा प्रयोगः हरे पुदीने की चटनी पीसकर चेहरे पर सोते समय लेप करने से चेहरे के मुँहासे, फुन्सियाँ समाप्त हो जायेंगी । खीलें होने पर तीखे, गर्म एवं चटपटे पदार्थों का सेवन बन्द कर दें ।
  • पाचवाँ प्रयोगः सोने से पूर्व 1 चम्मच पुदीने का चूर्ण, 3 चम्मच शहद में मिलाकर मुँह की कीलों पर अच्छी तरह से मसलें । सुबह चने का आटा अथवा उबटन लगाकर गरम पानी से चेहरा साफ कर लें । इससे कील-मुँहासे मिटते हैं ।

 

 

 


 

 

-
 

 

Previous Article ऐसे बढ़ायें आँखों का सौंदर्य.....
Next Article हथेलियों में सर्वरोगनिवारक और सौन्दर्यवर्धक शक्ति

Beauty Articles List