EasyDNNNews


हे युवान । गुलाम नहीं स्वामी बनो ।

भारत के युवानों को गर्व होना चाहिए कि वे ऐसी भारत माँ की सौभाग्यशाली संतान हैं, जहाँ शास्त्रों एवं सदगुरुओं का मार्गदर्शन सहज-सुलभ है । आज ही प्रण कर लो कि हम अंग्रेजों की गुलामी नहीं करेंगें, भारतीय शिक्षा पद्धति ही अपनायेंगे । अपने ऋषियों-महापुरुषों द्वारा चलायी गयी सर्वोत्कृष्ट गुरुकुल शिक्षा-पद्धति अपनाकर जीवन को महान और तेजस्वी बनायेंगें, समग्र विश्व में अपनी संस्कृति कि सुवास फैलायेंगे और वीर, धीर बनकर निष्काम कर्म करते जायेंगें ।  


वीरबनो बढ़ेचलो..


तुम्हारी शान यही, वीर बनो बढ़े चलो।।

शूरों का गान यही, वीर बनो बढ़े चलो।।

रूकने का नाम न लो, असमय विश्राम न लो।।

सच्चे निष्काम बनो, पुण्यों का दाम न लो।।

कहते भगवान यही, वीर बनो बढ़े चलो।।

दुःख ले लो दो न कभी, सुख दो पर लो न कभी।।

गिरो उठो दम ले लो, पर निराश हो न कभी।।

गति की पहिचान यही, वीर बनो बढ़े चलो।।

जो जाये जाने दो, जो आये आने दो,

मन को अपने स्वर में, रोने दो गाने दो।

गुरूप्रदत्त ज्ञान यही, वीर बनो बढ़े चलो।।

सच्चे त्यागी होकर,तुम बड़भागी होकर,

जग से कुछ चाहो मत,‘सत्’अनुरागी होकर।

पथिक स्वाभिमान यही, वीर बनो बढ़े चलो।।

तुम्हारी शान यही, वीर बनो बढ़े ।।

Next Article Bhagwan Naam Jap Mahima
Print
1001 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.