/ Categories: Pregnancy
Visit Author's Profile: Admin

छुहारे की पौष्टिक खीर

विधि - 1 से 3 मीठे छुहारे रात को पानी में भिगो दें । सुबह गुठली निकालकर पीस लें । एक कटोरी दूध में थोड़ा पानी, पिसे छुहारे व मिश्री मिला के उबाल लें । खीर तैयार !

लाभ - यह खीर बालकों के शरीर में रक्त, मांस, बल तथा रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाती है । टी.बी., कुक्कर खाँसी, सूखारोग आदि से बच्चों का रक्षण करती है । गर्भिणी स्त्री यदि तीसरे महीने से इसका नियमित सेवन करे तो गर्भ का पोषण उत्तम होता है । कुपोषित बालकों व गर्भिणी स्त्रियों के लिए यह खीर अमृततुल्य है ।             


Previous Article माताओं को फायदे कारक
Next Article मासानुसार गर्भिणी परिचर्या
Print
392 Rate this article:
5.0

Please login or register to post comments.